Search Suggest

jaborandi hair oil benefits uses price side effects in hindi

हर दूसरे-तीसरे व्यक्ति को बालों के झड़ने, बालों के दोमुंहेपन, बालों में डैंड्रफ, और सफेद बालों की समस्याएं होती हैं।

jaborandi (जैबोरंडी) हेयर ऑयल: लाभ, उपयोग, मूल्य और दुष्प्रभाव हिंदी में

नमस्कार दोस्तों हम आप सभी का आपका अपने ब्लॉग NEWS METO में बहुत-बहुत स्वागत करते हैं। 

jaborandi hair oil benefits uses price side effects in hindi


हर दूसरे-तीसरे व्यक्ति को बालों के झड़ने, बालों के दोमुंहेपन, बालों में डैंड्रफ, और सफेद बालों की समस्याएं होती हैं।

इन समस्याओं के लिए हम मार्केट में उपलब्ध विभिन्न प्रकार के उत्पादों का उपयोग करते हैं, लेकिन बहुत कम लोग ऐसे होते हैं जिन्हें इनसे अच्छे परिणाम मिलते हैं। 

आज इस आर्टिकल में हम आपको इन समस्याओं का समाधान बताऊंगा, जिसमें जैबोरंडी का उपयोग किसे करना चाहिए और किसे नहीं करना चाहिए, इसकी जानकारी दूंगा।

जैबोरंडी के उपयोग कैसे करें

जैबोरंडी का उपयोग विभिन्न बालों की समस्याओं जैसे कि बालों का झड़ना, डैंड्रफ और सफेद बालों के लिए किया जाता है। 

लेकिन यह ध्यान रखें कि जैबोरंडी का मदर टिंचर सीधे बालों पर लगाने से वाष्पित हो जाता है और इसका प्रभाव नहीं पड़ता। इसलिए, इसे तेल के रूप में उपयोग करना अधिक फायदेमंद होता है।

तेल को लगाने का सही तरीका

जैबोरंडी का तेल बनाने के लिए नारियल तेल या बादाम तेल को आधार बनाकर उसमें जैबोरंडी के मदर टिंचर को मिलाएं। इससे आपके बालों को न केवल नारियल तेल का पोषण मिलेगा, बल्कि जैबोरंडी का भी पूरा लाभ मिलेगा।

किसे जैबोरंडी का उपयोग नहीं करना चाहिए

1. अधिक पसीना आने वालों को: जिन लोगों को सिर से बहुत अधिक पसीना आता है, उन्हें जैबोरंडी का उपयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि यह नमी बढ़ाता है, जिससे बालों की समस्याएं और बढ़ सकती हैं।

2. किडनी और हृदय के मरीजों को: जिन लोगों को किडनी या हृदय की समस्याएं हैं, उन्हें भी जैबोरंडी का उपयोग नहीं करना चाहिए।

अन्य सावधानियां

1. Mother tincher का उपयोग: जैबोरंडी के मदर टिंचर को किसी और मदर टिंचर के साथ मिलाकर उपयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे इसके रासायनिक गुण बेअसर हो सकते हैं।

2. ऑनलाइन उपलब्धता: होम्योपैथिक दवाएं किसी भी ऑनलाइन फार्मेसी या स्थानीय होम्योपैथिक मेडिकल स्टोर पर आसानी से मिल जाती हैं।

होम्योपैथिक दवाओं का सेवन

होम्योपैथिक दवाओं को हमेशा खाली पेट लें। इन्हें खाने के लगभग आधे घंटे पहले या दो से ढाई घंटे बाद लें। दवा लेने से पहले मुँह को अच्छे से साफ कर लें। 

प्याज, अदरक, हिंग या इलायची जैसी चीजों का सेवन होम्योपैथिक दवाएं लेने के समय से आधे घंटे पहले या बाद में करें ताकि दवाओं का पूरा प्रभाव मिल सके।

इन सभी सावधानियों का पालन करके आप होम्योपैथिक दवाओं का सर्वोत्तम परिणाम पा सकते हैं। 

जय हिंद, जय भारत! 

Post a Comment